Breaking News
Home » मध्य प्रदेश » इन्दौर » मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा झाबुआ को 135 करोड़ रूपये की सौगातें

मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा झाबुआ को 135 करोड़ रूपये की सौगातें

मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा झाबुआ को 135 करोड़ रूपये की सौगातें
इंजीनियरिंग कालेज पूर्व राष्ट्रपति स्व. डॉ.कलाम तथा माडल कालेज पूर्व सांसद स्व. श्री दिलीप सिंह भूरिया के नाम पर रखने की घोषणा, निःशुल्क सायकल योजना की राशि बढ़ाकर 3 हजार रूपये करने की घोषणा, झाबुआ में शहरवासियों के लिये टाऊन हाल व कॉलेज के लिये आडिटोरियम बनाने तथा कालेज में पुस्तकालय के लिये डेढ़ करोड़ देने की घोषणा, राणापुर में शासकीय कालेज खोले जाने, झाबुआ तथा राणापुर मण्डियों के विकास के लिये दो करोड़ की घोषणा, झाबुआ शहर की सड़क के लिये 10 करोड़ तक की राशि देने की घोषणा

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने पूर्व राष्ट्रपति स्व.डॉ.ए.पी.जे.अब्दुल कलाम तथा झाबुआ के पूर्व सांसद स्व.श्री दिलीपसिंह भूरिया को श्रृद्धांजलि देते हुए उनकी स्मृति में झाबुआ में खोले जाने वाले इंजीनियरिंग कालेज का नाम पूर्व राष्ट्रपति स्व. ए.पी.जे.अब्दुल कलाम तथा माडल कालेज का नाम पूर्व सांसद स्व.श्री दिलीपसिंह भूरिया के नाम पर रखे जाने तथा विद्यार्थियों के लिये शासन द्वारा संचालित निःशुल्क सायकल वितरण योजना में राशि 2 हजार 400 रूपये से बढ़ा कर 3 हजार रूपये किये जाने की घोषणा की। वे रविवार को झाबुआ में शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के खेल मैदान में आयोजित छात्र सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने इस अवसर पर झाबुआ में 42 करोड़ रूपये की लागत से इंजीनियरिंग कालेज के नवीन भवन तथा 12 करोड़ रूपये की लागत से माडल कालेज के नवीन भवन की आधारशिला भी रखी। कार्यक्रम में मुख्यमंत्रीजी ने कुल 135 करोड़ रूपये की लागत के कुल 26 कार्यों का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया।
इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, आदिवासी विकास विभाग के मंत्री श्री ज्ञानसिंह, जिले के प्रभारी एवं श्रम मंत्री श्री अंतरसिंह आर्य, विधायक झाबुआ श्री शांतिलाल बिलवाल, विधायक पेटलावद श्रीमती निर्मला भूरिया, विधायक थांदला श्री कलसिंह भाबर, विधायक अलिराजपुर श्री नागर सिंह चौहान, विधायक जोबट श्री माधवसिंह डाबर, विधायक रतलाम ग्रामीण श्री मथुरालाल डाबर, विधायक सरदारपुर श्री वेलसिंह भूरिया भी मंचासीन थे।
मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने छात्र सम्मेलन में छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि वे प्रदेश में बच्चों की पढ़ाई में कोई भी बाधा नहीं आने देंगे। उन्होंने कहा कि बच्चों तुम मेहनत में कोई कसर नहीं छोड़ों, पढ़ाई के लिये सुविधाओं और व्यवस्थाओं में वे कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। उन्होंने छात्रों से आव्हान किया कि वे अपना लक्ष्य हमेशा बड़ा रखें तथा पूर्व राष्ट्रपति स्व.डॉ.कलाम की भांति सपने खुली आँखों से देखें। उन्होंने कहा कि मैंने दो साल पहले एक सपना यह देखा कि हमारे मध्यप्रदेश के बेटा-बेटी आईआईटी, मेडिकल, क्लेट,आईएएस, आईपीएस में चयनित हों और खुद का तथा प्रदेश का नाम रोशन करें। बेटा-बेटियों के लिये सरकारी स्कूलों में कोचिंग के साथ ही पढ़ाई के लिये अन्य व्यवस्थाएं की हैं। आज मध्यप्रदेश के बच्चों ने आईआईटी में पहला, दूसरा व तीसरा स्थान हासिल कर यह सपना पूरा कर दिया है। मध्यप्रदेश के विभिन्न अंचलों से 140 बच्चें अनुसूचित जाति व जनजाति वर्ग के आईआईटी में चयनित हुए हैं।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मैंने एक और सपना देखा है कि मध्यप्रदेश के बेटा-बेटी अपना स्वयं का उद्योग स्थापित करें। इसके लिये तीन चीजों की जरूरत होती है, जिनकी व्यवस्था मध्यप्रदेश सरकार द्वारा की गयी है। इनमें पहला तकनीकी जानकारी होना जिसके लिये कौशल प्रशिक्षण की व्यवस्था की गयी है। दूसरा उत्पाद की मार्केटिंग और ब्राण्ंिडग सरकार इसमें भी सहयोग कर रही है। तीसरा पूंजी की जरूरत होती है इसके लिये राज्य शासन ने मुख्यमंत्री युवा उद्यमी तथा मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना संचालित कीं है। जिनमें एक करोड तक की पूंजी की व्यवस्था के साथ ही सरकार द्वारा ऋण ग्यारंटी भी दी जाती है।

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने क्षेत्रीय विधायक की मांग पर नर्मदा लिंक सिंचाई परियोजना का पानी झाबुआ तक लाये जाने की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि वे एक और सपना झाबुआ में नर्मदा का पानी लाने का खुली आँखों से देख रहे हैं और इस सपने को पूरा करने के लिये यदि नहर से पानी संभव नहीं हुआ तो पाईप लाइन के माध्यम से नर्मदा का पानी झाबुआ तक लाया जाएगा। झाबुआ के राणापुर में नवीन शासकीय कालेज खोले जाने, झाबुआ व राणापुर में कृषि उपज मण्डियों के विकास कार्यों के लिये दो करोड़ रूपये, झाबुआ शहर में सड़क निर्माण के लिये दस करोड़ रूपये, झाबुआ में शहर वासियों के लिये टाऊन हॉल तथा कॉलेज के छात्रों के लिये आडीटोरियम निर्माण, कॉलेज में छात्रों के लिये पुस्तकालय भवन व पुस्तकों के लिये कुल डेढ़ करोड़ रूपये तथा देवझीरी में कुण्ड,स्टापडेम व घाट निर्माण आदि के लिये 40 लाख रूपये की मंजूरी दिये जाने की घोषणाएं भी कीं।
कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, जिला प्रभारी एवं श्रम मंत्री श्री अंतरसिंह आर्य ने भी छात्रों को संबोधित किया। क्षेत्रीय विधायक श्री शांतिलाल बिलवाल ने स्वागत उदबोधन दिया तथा क्षेत्र से संबंधित मांगे रखीं। सम्मेलन में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पोलिटेक्निक कॉलेज झाबुआ के ऐसे छात्रों जिन्होंने 75 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किये उन्हें प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया।

Check Also

इंदौर बना भारत का सबसे स्वच्छ शहर इंदौर नं-1 और भोपाल नं-2 लिस्ट देखें

देश के 434 शहरों एवं नगरों में कराये गए स्वच्छता सर्वेक्षण के बाद केंद्र सरकार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

thirteen − twelve =

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com