Breaking News
Home » मध्य प्रदेश » इन्दौर » कलेक्टर श्री पी.नरहरि द्वारा ब्राजमोहिनी कॉलोनी के 152 प्लाटधारकों को कब्जा दिलाया

कलेक्टर श्री पी.नरहरि द्वारा ब्राजमोहिनी कॉलोनी के 152 प्लाटधारकों को कब्जा दिलाया

कलेक्टर श्री पी.नरहरि द्वारा ब्राजमोहिनी कॉलोनी के 152 प्लाटधारकों को कब्जा दिलाया
कलेक्टर श्री पी.नरहरि द्वारा ब्राजमोहिनी कॉलोनी के 152 प्लाटधारकों को कब्जा दिलाया
इन्दौर- कॉलोनाइजर नितिन अग्रवाल द्वारा वर्ष 1994 में काटी गयी ब्राजमोहिनी कॉलोनी बगैर विकास कार्य एवं अन्य विभागीय औपचारिकताओं की पूर्ति किये 302 प्लाटों को विक्रय कर रजिस्ट्री कर दी गयी थी। कलेक्टर श्री नरहरि द्वारा जनहित में सकारात्मक प्रयास करते हुये वैधानिक स्वरूप में 152 प्लाटधारकों को कब्जा दिलाया गया है। वर्तमान में उक्त सभी 152 प्लाटधारक कानूनी रूप से अपने प्लाट के मालिक हो गये है। प्लाटधारकों को कब्जा प्रमाण-पत्र के साथ-साथ भवन निर्माण अनुज्ञा पर लगी रोक हटाये जाने संबंधी आदेश की प्रतियां भी वितरित की गयी और क्षेत्रीय विधायक श्री महेन्द्र हार्डिया, कलेक्टर श्री पी.नरहरि द्वारा कुल 152 प्लाटधारकों को प्लाट का वैधानिक कब्जा सौंपा गया। इस अवसर पर आयुक्त नगर निगम श्री मनीष सिंह, उपायुक्त सहकारिता, क्षेत्रीय पार्षद श्रीमती सुनीता सोलंकी तथा प्लाटधारी मय परिजन के उपस्थित थे।
उल्लेखनीय है कि विगत अक्टूबर 2016 में ब्राजमोहिनी कॉलोनी के प्लाटधारी कॉलोनाइजर की शिकायत लेकर कलेक्टर श्री पी.नरहरि के समक्ष उपस्थित हुये थे। इस पर तत्काल कार्यवाही करते हुये कलेक्टर श्री नरहरि द्वारा एसडीएम शालिनी श्रीवास्तव को कार्यवाही कर प्लाटधारकों को कब्जा दिलाने के लिये निर्देशित किया गया था। जिस पर कुल 40 प्लाटधारियों को कब्जा भी सौंपा गया था, किंतु उस दौरान कालोनाइजर नितिन अग्रवाल द्वारा कॉलोनी निर्माण की प्रक्रिया में गंभीर अनियमितता की जानकारी तथा उसकी वजह से नगर निगम द्वारा भवन निर्माण अनुज्ञा जारी न किये जाने की शिकायतें प्लाटधारकों द्वारा कलेक्टर को की गयी थी। इस स्थिति को गंभीरता से लेते हुए कलेक्टर श्री पी.नरहरि द्वारा जनहित को देखते हुए भवन अनुज्ञा पर लगी रोक हटवाई बल्कि मामले में व्यक्तिगत रूचि लेकर जो विकास कार्य कालोनाइजर द्वारा अधूरे छोड़ दिये गये थे, उन्हें भी पूर्ण कराया गया।
आयुक्त नगर पालिका निगम द्वारा कुल 152 प्लाट के संबंध में भवन अनुज्ञा पर लगी रोक हटायी जाने संबंधी आदेश जारी करने से अब उक्त प्लाट वैध घोषित हुए हैं। जिन पर प्लाटधारक भवन अनुज्ञा लेकर निर्माण कार्य करने के लिये स्वतंत्र होंगे।
शेष प्लाटों को आगामी दिनों में वैध करने की करने की कार्यवाही के संबंध में आयुक्त नगर पालिक निगम, संयुक्त संचालक, नगर तथा ग्राम निवेश तथा उपायुक्त सहकारिता के साथ समन्वित कार्यवाही की जाकर समस्याओं का निराकरण किये जाने हेतु कलेक्टर श्री नरहरि द्वारा संबंधित पीड़ितों को आश्वस्त किया गया है।

Check Also

इंदौर बना भारत का सबसे स्वच्छ शहर इंदौर नं-1 और भोपाल नं-2 लिस्ट देखें

देश के 434 शहरों एवं नगरों में कराये गए स्वच्छता सर्वेक्षण के बाद केंद्र सरकार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × two =

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com